Thursday, 20 September 2012

याद करने का वैज्ञानिक तरीका:- गिरिजेश

याद करने का वैज्ञानिक तरीका:- गिरिजेश

परीक्षा और प्रतियोगिता में सफलता के जानलेवा दबाव के चलते सभी छात्रों के सामने याद करने और याद रखने की यह भीषण समस्या आती ही है. अधिकतर छात्र अक्सर यह शिकायत करते हैं कि मुझे याद नहीं होता या मैं याद तो कर ले जाता हूँ, मगर लिखते समय भूल जाता हूँ या घर पर तो सही लिख ले जाता हूँ, मगर परीक्षा में गलती हो जाती है या मैं यह नहीं जान पाता कि जो मैं जानता हूँ उसे कैसे बताऊँ या कहाँ से लिखना या बोलना शुरू करूँ.
विज्ञान हमें हमारी सभी समस्याओं का विश्लेषण करना और उनका समाधान खोजना सिखाता है. अगर आपको यह पता चल गया कि आपकी समस्या क्या है, तो समाधान की तलाश का पहला चरण पूरा हो गया. याद न होना भी एक समस्या है और इसका भी विज्ञान के पास समाधान है. आइए इस अनुभवसिद्ध पद्धति को समझने और सीखने का प्रयास करें. इस पद्धति से कठिन से कठिन और लम्बे से लम्बे उत्तर को आप याद भी कर ले जायेंगे और लिख भी ले जायेंगे.
१- जब भी कोई उत्तर याद करना हो, तो एकान्त में किसी शान्त जगह पर बैठना चाहिए.
२- याद करते समय हमारा दिमाग पूरी तरह से ठण्डा होना चाहिए. उस समय किसी तरह की हड़बड़ी, परेशानी, उथल-पुथल, तनाव, चिन्ता, दु:ख, क्षोभ या क्रोध नहीं होना चाहिए.
३- जिस उत्तर को याद करना है, उसे रटना नहीं चाहिए. रटने का मतलब है बिना सोचे-समझे उत्तर के केवल कुछ शब्दों या एक-दो वाक्यों को ही जल्दी-जल्दी बार-बार दोहराना. रटने से उत्तर दिमाग में गहराई से बैठ नहीं पाता और जल्दी ही भूल जाता है. याद करने की यह परम्परागत पद्धति गलत और अवैज्ञानिक है.
४- वैज्ञानिक पद्धति से याद करने के लिये अपने उत्तर को धीरे-धीरे, रुक-रुक कर, समझ-समझ कर एक बार में शुरू से अन्त तक पूरा एक साथ ही पढ़िए.
५- उसके बाद अपनी उत्तर-पुस्तिका (NOTE-BOOK) को बन्द कर के ऊपर आसमान में देखते हुए पूरे उत्तर को एक सिरे से दूसरे सिरे तक अपने दिमाग में घुमाइए. इससे पूरे उत्तर की मोटी-मोटी रूप-रेखा पर दिमाग की पकड़ बन जायेगी.
६- इन दोनों क्रियाओं को कुल पाँच बार एक साथ ही दोहराइए. अर्थात पाँच बार पूरे उत्तर को धीरे-धीरे समझ-समझ कर पढ़िए और फिर उत्तर-पुस्तिका को बन्द कर के दिमाग में पूरे उत्तर को घुमाइए.
७- अब अपनी उत्तर-पुस्तिका को बन्द करके एक तरफ रख दीजिए. और अपनी रफ़ की कॉपी खोल लीजिए. उस पर ऊपर दिनांक और समय लिख लीजिए.
८- अब पूरे उत्तर को बिना नक़ल मारे जल्दी-जल्दी तेज रफ़्तार से लिखिए.
९- लिखने के दौरान उत्तर के बीच-बीच में कोई-कोई चीज़ भूल जायेगी. उसके लिये खाली जगह छोड़ते चले जाइए.
१०- इस तरह से पूरा उत्तर लिख डालिए और तब घड़ी देखिए और उत्तर लिखने में लगा समय नोट कर लीजिए.
११- अब अपनी उत्तर-पुस्तिका खोलिए और लिखते समय जितने शब्द या वाक्यांश याद न आने के कारण छूट गये थे, उनकी खाली जगहों को उत्तर-पुस्तिका से देख कर दूसरे रंग की स्याही से भर दीजिए.
१२- अब एक बार और अपने पूरे उत्तर को दिमाग में घुमा कर नये पन्ने पर समय नोट कर के लिख डालिए.
१३- इस तरह आप अपने प्रयोग के अन्त में देखेंगे कि आपको न केवल उत्तर याद हो गया, बल्कि आपका आत्मविश्वास भी बढ़ गया और जब एक बार आत्मविश्वास पैदा हो गया, तो फिर तो कोई भी उत्तर आपके लिये बड़ा या कठिन लगेगा ही नहीं.
१४- यदि आप इस प्रयोग से सन्तुष्ट और प्रसन्न होते हैं, तो मेरा निवेदन है कि अपने आस-पास के लोगों को भी इसे सीखने के लिये प्रोत्साहित कीजिए.
१५- अधिक से अधिक छात्रों और विद्यालयों तक इसे पहुँचाने के काम में मेरी सहायता कीजिए.
१६- इसको सीखने में अगर आप कोई दिक्कत महसूस करते हैं, तो आपकी सहायता करने के लिये मैं विनम्रतापूर्वक उपलब्ध हूँ. मुझसे 09450735496 पर सम्पर्क कीजिए.

7 comments:

  1. विश्व का एक मात्र रंगीन सचित्र स्मृति शास्त्र
    भूलना भूल जाओगे Forget Forgetting का हिन्दी संस्करण, भाषाटीका सहित
    ISBN: 9788192493909 पुस्तकालय संस्करण-2012, पृष्ठ 264 सजिल्द, सचित्र, रंगीन, आर्ट पेपर पर मुद्रित
    लेखक:
    विश्वविख्यात शिक्षागुरु एन एल श्रमण, प्रशिक्षक, प्रेरक, निमोनिस्ट, लेखक, रचयिता गुरु गणित
    World’s No. 1 Brain Training and Memory Book for All
     World’s only colored book of Memory and Mental Math.
     World’s only Brain book having more than 200 colored illustrations.
     World’s only book which trains logic and verbal memory.
     World’s only book of Guru Ganit, simpler from Vedic math.
     N L Shraman is the only Hindi and English Mnemonist in the World. http://en.wikipedia.org/wiki/Mnemonist.
     World’s only book which trains basics of 51 subjects to a child of 4 years.
     World’s School teaches what to read, this book teaches how to read.
     World’s only book an alternative to tuitions and teacher of teachers.
     World’s only book for all ages: Students, Teachers, Working, Old Young.
     Browse pages on : http://books.google.co.in/books?id=raRVq78byAUC
     World’s only book which improves grades in school immediately.
     World’s only book which improves memory instantly and removes panic and fear in Exam.
    परीक्षा का एक (1) नम्बर आपकी जिन्दगी बदल सकता है पर रु 1001 नहीं।
    यह विश्व की प्रथम एवं एक मात्र हिन्दी स्मृति शास्त्र की पुस्तक है इसे सम्पादित करने में दस वर्षों से अधिक समय लगा है। इस पुस्तक में विश्व की समस्त स्मरण की तकनीकों के साथ-2 वह सारी जानकारियाँ दी गयी हैं जिन्हें बहुत कम लोग जानते हैं जैसे:
    PSUDONUMEROLOGY, PROSOPAGNOSIA, COLOURBLINDNESS NEUROBICS, JUMBLE WORD, ANAGRAM, LEFT AND RIGHT BRAIN, MIRROR WRITING, CHISENBOP, ABSENTMINDEDNESS, CALANDAR & DATES, PROSOPAGNOSIA, MIND MAPPING, SELF HYPNOSIS, MNEMONICS, DREAMS & SLEEP, MEMORY GAMES, SUBCONSCIOUS MIND, PEGS, MAGIC SQUARES, PLAYING CARDS, OLD AGED MEMORY, BROWSE BRAIN, EXAMINATION FEAR, MEMORY HERBS, STRESS MGMNT, MEMORY MEDICINES, REVERSE MEMORY, SOUND WAVES, FORGETTING, PHOTOGRAPHIC MEMORY, MEMORY SPORTS, GUINESS WORLD RECORDS, LIMCA BOOK OF RECORDS, FORGETTING, MEMLETICS, DMIT, DYSLEXIA, DIMENTIA आदि और बहुत कुछ।।
    हिन्दी स्मृति विज्ञान (Hindi Mnemonics) प्रथम रचना है एवं विश्व में कोई भी दूसरी पुस्तक नहीं है। इस पुस्तक की विषय वस्तु में 51 से अधिक विषयों जैसे नागरिक शास्त्र, इतिहास, भूगोल, गणित, बीज गणित, रेखा गणित, ठोस ज्यामिति, ज्यामिति, भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान, हिन्दी अँग्रेज़ी भाषा व व्याकरण, खगोल विज्ञान, कृषि, वनस्पति शास्त्र, सामान्य ज्ञान, कम्प्यूटर विज्ञान, स्मृति शास्त्र, वेग गणित, इलेक्ट्रॉनिक्स्, मीट्रिक प्रणाली वाणिज्य, अर्थशास्त्र व देश विदेश की जानकारी आदि के साथ-2 अन्य बहुमूल्य जानकारियाँ दी गयी हैं। इसकी विषय वस्तु को चार वर्ष या इससे अधिक की आयु का कोई भी व्यक्ति स्मरण कर सकता है। इस पुस्तक को पढ़ने के बाद आपको पछतावा हो सकता है कि यह पुस्तक आपने पहले क्यों नहीं पढ़ी।
    प्रकाशक: दि मेमोरी गुरु आफ़ इन्डिया ( भारत गणराज्य)
    Free Workshops visit: www.unlimitedmemory.tripod.com Email: nlshraman@yahoo.co.in
    सम्पूर्ण भारत व विदेशों में पुस्तक प्राप्त करने के लिये फोन करें
    +91-9651968638, 9984420572, 9532435372 दक्षिणा 1001 (भारत में) $ 50 (विदेशों में) ।
    “500 % तक स्मरणशक्ति बढ़ायें मात्र कुछ दिनों में”
    Buy from eBay.in

    ReplyDelete
  2. Waah sir, adbhut sachi Maanav jati ki seva sir koi aap se sikhe

    ReplyDelete
  3. ___ याद करने का वैज्ञानिक तरीका ___
    तथ्य याद रखने का सही तरीका क्या है? - टॉम स्टेफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी ऑफ़ शेफील्ड
    अगर मैं आपसे कहूं कि बैठें और फ़ोन नंबरों की एक सूची याद करें, या कुछ तथ्य याद करें, तो आप ये काम किस तरह करेंगे?
    इस बात की ख़ासी संभावना है कि आप ग़लत तरीक़ा अपनाएंगे क्योंकि ज़्यादातर लोग वही करते हैं.
    मनोवैज्ञानिक मानते हैं कि लोग नहीं जानते कि दिमाग का सबसे बेहतर इस्तेमाल किस तरह से किया जा सकता है, यानी 'सीखने' या 'याद' करने का असल तरीका क्या होना चाहिए?
    बार-बार टेस्ट करने का तरीका
    हैरानी की बात यह है कि हम इस बारे में बहुत कम सोचते हैं.
    शोधकर्ता जेफ़्री कार्पिक और हेनरी रॉडिगर बताते हैं कि ख़ुद को बार-बार टेस्ट करना, तथ्यों को याद रखने के साथ हमारी स्मरण शक्ति को मज़बूत कर सकता है.
    उन्होंने अपने प्रयोग में कॉलेज के छात्रों से स्वाहिली भाषा और उसके अंग्रेज़ी के मतलब को सीखने को कहा.
    स्वाहिली का शब्द देने का मतलब ये था कि इसे सीखने वाले अपनी पुरानी जानकारी से मदद न ले पाएँ.
    याद करने के दो अलग तरीके
    सभी शब्दों को सीखने के एक हफ्ते बाद परीक्षा ली गई.
    आम तौर पर आप और हम क्या करते? पहले शब्दों की सूची बनाते, फिर उन्हें दोहराते और जो शब्द याद न होते उन्हें फिर दोहराते.
    इससे होता यह है कि हमें जो शब्द याद हो जाते हैं उन्हें हम सूची से बाहर निकाल देते हैं और अपना ध्यान उन्हीं शब्दों पर केंद्रित करते हैं जो अभी तक सीखे नहीं जा सके हैं.
    यह तरीक़ा याद करने के लिए सबसे अच्छा लगता है, और यही सही तरीका माना जाता रहा है. लेकिन अगर चीज़ों को सही तरीक़े से याद रखना है तो यह बेहद ग़लत तरीका है.
    कार्पिक और रॉडिगर ने छात्रों से परीक्षा की तैयारी अलग-अलग तरीके से करने को कहा. उदाहरण के लिए, छात्रों का एक ग्रुप सभी शब्दों को लगातार दोहराता और जांचता रहा, जबकि दूसरा ग्रुप सही शब्दों को छोड़, बाक़ी शब्दों पर ध्यान केंद्रित करता रहा.
    चौंकाने वाले नतीजे
    इन ग्रुपों की अंतिम परीक्षा के परिणाम चौंकाने वाले थे. परीक्षण के दौरान जो लोग सिर्फ़ छूटे हुए या याद न रहे वाले शब्द याद कर रहे थे, उन्हें सिर्फ़ 35 प्रतिशत शब्द याद थे.
    जबकि पूरी सूची के शब्दों को बार-बार दोहरा कर याद करने वाले लोगों को 80 प्रतिशत तक शब्द याद थे.
    इससे साफ़ है कि सीखने का सबसे अच्छा तरीक़ा सभी तथ्यों को बार-बार याद करना या दोहराना है.
    ज़्यादातर स्टडी गाइड में बताया जाता है कि उन तथ्यों को दोहराने से बचना चाहिए जो आपके स्मरण में हैं. यह सलाह एकदम ग़लत है.
    आपको अंतिम परीक्षा के समय तक यदि तथ्यों को याद रखना है तो आपको सभी सीखे तथ्यों को दोहराते रहना चाहिए.
    http://www.bbc.com/hindi/international/2015/07/150711_vert_fut_memory_skills_du_as

    ReplyDelete
  4. Sir mere aisa krne par vi exam ke time mein mai answer bhool gyi thi... Sir yaha tak ki mujhe sare answer yad the sayad 15 marks ke 20 or 25, 8 marks ke 10 questn, 4 marks ke 10 question k answers aur mai exam me top krna chahti thi.. Exam k dino me mai revision krne ke liye keval 4 ghnte hi so pati thi fir vi mai answer bhool gyi.. Meri help kijiye please... Kya meri memory power bilkul vi sharp nhi hai..

    ReplyDelete
  5. Sir mere aisa krne par vi exam ke time mein mai answer bhool gyi thi... Sir yaha tak ki mujhe sare answer yad the sayad 15 marks ke 20 or 25, 8 marks ke 10 questn, 4 marks ke 10 question k answers aur mai exam me top krna chahti thi.. Exam k dino me mai revision krne ke liye keval 4 ghnte hi so pati thi fir vi mai answer bhool gyi.. Meri help kijiye please... Kya meri memory power bilkul vi sharp nhi hai..

    ReplyDelete
  6. Ridanya आप सबसे पहले परीक्षा के समय अच्छी नींद ले यदि आप घबराहट में पडते हैं तो कुछ भी याद नहीं रहेगा अपना आत्मविश्वास बताये कुछ समय के लिए स्मरण योग करे यदि कुछ समझ में ना आये तो इस no में whatsapp करे 9669774100 धन्यवाद

    ReplyDelete